यदि आज रामायण की घटना हो और लंका विजय पर कैसे प्रतिक्रिया की जाएगी.

यदि आज रामायण की घटना हो और लंका विजय पर कैसे प्रतिक्रिया की जाएगी.

1. रवीश कुमार का राम के लिए कुछ ऐसा होता एक खुला पत्र :
आखिर राम अपनी पत्नी की लेकर क्यों गए थे जंगल में ? यह एक सोची समझी चाल लगती है। सब कुछ राम का करा धरा है। .रावण अल्पसंख्यक था। राक्षस जाती अल्पसंख्यक थी। ये अल्पसंख्यकों के साथ घोर अन्याय है! मेरा चेनल मांग करता है कि रावण के वध के लिए उचित मुवावाजा दिया जाए। और राम माफी मांगे !

2. एक इंग्लिश न्यूज पेपर का सम्पादकीय कुछ ऐसा होता.
आखिर राम को लड़ाई लड़ने के लिए लंका जाने की ज़रूरत थी क्यों ?हमारी संस्कृति कहां है? रावण को आतंकित क्यों किया जा रहा था?ओह माय गॉड !! रावण मारे गए! केसरिया आतंक का भयनाक रूप !

3. राजदीप सरदेसाई/ बरखा दत्त/ टुकड़े टुकड़े गैंग JNU की ब्रेकिंग इण्डिया ब्रिगेड के बोल कुछ इस तरह होते —
ये क्या हो रहा है ?क्या हम एक ऐसा भारत चाहते हैं जहां एक राजा अपनी पत्नी की सुरक्षा के लिए एक संपूर्ण साम्राज्य को जला दे ?
राम के भक्तों ने देश में सभी पद और सामाजिक लाभ हासिल किए थे ! अल्पसंख्यकों को उनके अधिकारों से वंचित रखा जा रहा था ! इसलिए, अपने अधिकार वापस पाने के लिए रावण का कर सीता का अपहरण करना सर्वथा उचित है ।

4- गिरगिट ब्राण्ड यू टर्न नायक युग पुरुष जी बोलते — राम लक्ष्मण हनुमान और विभीषण आदि सब मिले हुए हैं। इनकी जांच होनी चाहिए।

5. एक जबरदस्ती के नेता जी —
मैंने अयोध्या का दौरा किया और भैया मैंने देखा कि राम का विकास मॉडल एकदम असफल रहा है ! और राम ने जो पुष्पक विमान प्रयोग किया …भैया उसमे घोटाला हुआ है। उसकी खरीद में गड़बड़ी हुई है। मुझे बस 15 मिनट बोलने का मौका दे दो भैया , राम मेरे सामने खड़ा नहीं हो सकेगा। भूकंप आ जाएगा भैया।

6 श्री रावण साहब को मेरी अश्रुपूरित श्रद्धांजलि…. वो मासूम था। रावण के इस एनकाउंटर पर मैडम रात भर फूट फूट कर रोती रही। दिग्विजय सिंह !!


और अंत में…
रात के दो बजे कोर्ट खुलता ! तीन मिनट तक जिरह होती। राम को दोषी करार दे दिया जाता !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *