शहीद ठाकुर रोशन सिंह

शहीद ठाकुर रोशन सिंह

” alt=”” aria-hidden=”true” />       काकोरी काण्ड के शहीद क्रांतिकारी ठाकुर रोशन सिंह का जन्म उत्तर प्रदेश के शाहजहाँपुर जनपद में कस्बा फतेहगंज से 10 किलोमीटर दूर स्थित गाँव नबादा में 22 जनवरी 1892 को ठाकुर जंगी सिंह एवं कौशल्या देवी के पुत्र के रूप में हुआ था। पूरा परिवार आर्य समाज से अनुप्राणित था और महर्षि दयानंद में अगाध श्रद्धा रखता था और इसी ने ठाकुर रोशन सिंह में देश के प्रति समर्पण का भाव उत्पन्न किया। पाँच भाई-बहनों में सबसे बडे रोशन सिंह ने असहयोग आन्दोलन में उत्तर प्रदेश के शाहजहाँपुर और बरेली जिले के ग्रामीण क्षेत्र में अद्भुत योगदान दिया था। यही नहीं, बरेली में हुए गोली-काण्ड में एक पुलिस वाले की रायफल छीनकर जबर्दस्त फायरिंग शुरू कर दी थी जिसके कारण हमलावर पुलिस को उल्टे पाँव भागना पडा। बाद में इन पर मुकदमा चला और सेण्ट्रल जेल बरेली में दो वर्ष के सश्रम कारावास की सजा काटनी पडी।

      गान्धी जी द्वारा सन 1922 में हुए चौरी चौरा काण्ड के विरोध स्वरूप असहयोग आन्दोलन वापस ले लिये जाने पर पूरे हिन्दुस्तान में तीव्र प्रतिक्रिया हुई। इसी प्रकरण से उद्वेलित होकर ठाकुर साहब ने भी राजेन्द्र नाथ लाहिडी़, रामदुलारे त्रिवेदी व सुरेशचन्द्र भट्टाचार्य आदि के साथ शाहजहाँपुर शहर के आर्य समाज पहुँच कर राम प्रसाद बिस्मिल से गम्भीर मन्त्रणा की जिसमें राष्ट्रीय स्तर पर अस्त्र-शस्त्र से सुसज्जित कोई बहुत बड़ा क्रान्तिकारी संगठन बनाने की रणनीति तय हुई। इसी रणनीति के तहत ठाकुर रोशनसिंह को संगठन में शामिल किया गया था क्योंकि इस दर्जे के पक्के निशानेबाज थे कि उडती हुई चिडिया को भी मार गिरा सकते थे।

       संगठन को सबसे अधिक आवश्यकता थी पैसे की और इसके लिए रास्ता तय हुआ डकैती का जिसे संगठन की ओर से नाम दिया गया-एक्शन। ऐक्शन के नाम पर पहली डकैती पीलीभीत जिले के एक गाँव बमरौली में 25 दिसम्बर 1924 को क्रिसमस के दिन अंग्रेजों के एक पिट्ठू व्यापारी बल्देव प्रसाद के यहाँ डाली गयी जिसमें 4000 रुपये और कुछ सोने-चाँदी के जेवरात क्रान्तिकारियों के हाथ लगे। परन्तु मोहनलाल पहलवान नाम का एक आदमी, जिसने डकैतों को ललकारा था, ठाकुर रोशन सिंह की रायफल से निकली एक ही गोली में ढेर हो गया और यही बाद में रोशन सिंह की फाँसी की सजा का कारण बना।

       इस संगठन ने अगला निशाना बनाया सरकारी खजाने को। 9 अगस्त 1925 को काकोरी स्टेशन के पास जो सरकारी खजाना लूटा गया था, वास्तव में उसमें ठाकुर रोशन सिंह शामिल नहीं थे, किन्तु इन्हीं की आयु (36 वर्ष) के केशव चक्रवर्ती (छद्म नाम), अवश्य शामिल थे जो बंगाल की अनुशीलन समिति के सदस्य थे, पर पकडे गए रोशन सिंह और चूँकि वो बमरौली डकैती में शामिल थे ही और इनके खिलाफ सारे साक्ष्य भी मिल गये थे अत: पुलिस ने सारी शक्ति ठाकुर रोशन सिंह को फाँसी की सजा दिलवाने में ही लगा दी और केशव चक्रवर्ती को खो़जने का कोई प्रयास ही नहीं किया। खानापूरी के बाद उन्हें फाँसी की सजा दे दी गयी।

       अपना अंत समय जान उन्होंने अपनी माँ के नाम एक भावुक पत्र लिखा जो आज भी इलाहबाद के संग्रहालय में देखा जा सकता है। ये मार्मिक पत्र ठाकुर रोशन सिंह की विचारधारा से तो अवगत कराता ही है, साथ ही अपने पीछे भरा पूरा परिवार अनाथ छोड़ कर जा रहे व्यक्ति के दुःख को भी व्यक्त करता है।
इलाहाबाद में नैनी स्थित मलाका जेल में फाँसी से पहली रात ठाकुर साहब कुछ घण्टे सोये फिर देर रात से ही ईश्वर-भजन करते रहे। प्रात:काल शौचादि से निवृत्त हो यथानियम स्नान ध्यान किया कुछ देर गीता-पाठ के बाद गीता हाथ में लेकर निर्विकार भाव से फाँसी घर की ओर चल दिये। फाँसी के फन्दे को चूमा फिर जोर से तीन वार वन्दे मातरम् का उद्घोष किया और वेद-मन्त्र – “ओ३म् विश्वानि देव सवितुर दुरितानि परासुव यद भद्रम तन्नासुव” – का जाप करते हुए 27 दिसम्बर 1927 को फन्दे से झूल गये।

       ठाकुर साहब की मृत्यु के बाद उनके परिवार को अपार कष्ट भोगने पड़े और उनका परिवार एक एक दाने का मोहताज हो गया। उनकी विवाह योग्य बेटी के विवाह में धनाभाव के कारण अडचने आने लगी और कोई भी हाथ उनकी सहायता के लिए आगे नहीं बढ़ा। ऐसे में प्रसिद्द पत्रकार और प्रताप के सम्पादक गणेश शंकर विद्यार्थी ने उनके परिवार की सहायता की और उनकी बेटी का कन्यादान भी किया। हालांकि एक आतंकवादी (गाँधी जी की कांग्रेस के दृष्टिकोण से) के परिवार की सहायता करने के लिए विद्यार्थी जी को कांग्रेस के अपने सहयोगियों का कोपभाजन बनना पड़ा पर ये उनका बडप्पन ही था कि उन्होंने कभी भी क्रांतिकारियों को अलग नहीं माना और सदैव उनकी हरसंभव सहायता की।

     इलाहाबाद की नैनी स्थित मलाका जेल के फाँसी घर के सामने अमर शहीद ठाकुर रोशन सिंह की आवक्ष प्रतिमा भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में उनके अप्रतिम योगदान का उल्लेख करते हुए लगायी गयी है। वर्तमान समय में इस स्थान पर अब एक मेडिकल कालेज स्थापित हो चुका है। मूर्ति के नीचे ठाकुर साहब की कही गयी ये पंक्तियाँ भी अंकित हैं –

जिन्दगी जिन्दा-दिली को जान ऐ रोशन!
वरना कितने ही यहाँ रोज फना होते हैं।

       शत शत नमन एवं विनम्र श्रद्धांजलि। (ये देश का दुर्भाग्य है कि शाहजहांपुर के थाना सिंधौली के पैना गांव में रहने वाली अमर शहीद ठाकुर रोशन सिंह की विधवा प्रपौत्री इंदु सिंह, जो नरेगा मजदूर है और अपने नाबालिग बच्चों के पेट भरने के लिए खेतों में मजदूरी करती है, की कुछ समय पहले अराजक तत्वों ने पिटाई की और फायरिंग करते हुए झोपड़ी में आग लगा कर सारी गृहस्थी ख़ाक कर गए पर कई बार शिकायत करने पर भी अभियुक्तों के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं हुयी। सच में ये देश अपने शहीदों का सम्मान करना नहीं जानता।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *